Breaking News technology विश्व शिक्षा स्वास्थ्य

चिंताजनकः 30 प्रकार के कैंसर में से 12 की वजह है एक, युवाओं में तेजी से बढ़ रहा खतरा

कैंसर ऐसी बीमारी है जो न केवल मरीज, बल्कि उसके पूरे परिवार को तोड़ देती है। इसका इलाज जितना महंगा और लंबा होता है, उतना ही मरीज के लिए कष्टकारी भी होता है। ऐसे में दुनिया भर के डॉक्टरों का मानना है कि लाइफ स्टाइल में थोड़ा बदलाव कर कैंसर के खतरे को दूर रखना ही समझदारी है। ऐसे में अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ताजा रिसर्च में 30 में से 12 प्रकार के कैंसरों की वजह पता की है। खास बात ये है कि इन 12 प्रकार के कैंसरों की वजह एक ही है, जिससे बचा जा सकता है। चिंताजनक ये है कि कैंसर की ये वजह युवाओं में तेजी से बढ़ रही है।

वैज्ञानिकों ने 1995 से 2014 के दौरान 30 तरह के कैंसर पर अध्ययन किया। इनमें 12 प्रकार के कैंसर ऐसे थे, जो मोटापे के कारण होते हैं। शोध में 25 से 84 साल की उम्र के लोगों को शामिल किया गया और 1.46 करोड़ मामलों का अध्ययन हुआ। शोध लैंसेट पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित है। वैज्ञानिकों ने पाया कि मोटापे के कारण होने वाले 12 में से छह प्रकार के कैंसर 25 से 49 साल की उम्र के लोगों में ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं।

इनमें भी कम उम्र के लोगों में इसके मामले बढ़ने की गति ज्यादा है। उदाहरण के तौर पर 1950 में जन्मे व्यक्ति की तुलना में 1985 में जन्मे व्यक्ति को मल्टीपल मायलोमा (कैंसर का एक प्रकार) होने का खतरा 59 फीसद ज्यादा है। वहीं ऐसे लोगों में पैंक्रियाटिक कैंसर (अग्नाशय का कैंसर) होने की आशंका दोगुनी हो जाती है।

मोटापा दुनियाभर में तेजी से बढ़ती जा रही बीमारी का रूप लेता जा रहा है। पश्चिम के बहुत से देशों में इसने महामारी जैसा रूप ले लिया है। मोटापा इसलिए भी बड़ी समस्या है, क्योंकि यह डायबिटीज और कैंसर जैसी कई अन्य बीमारियों का भी कारण बनता है। हाल के अध्ययन में सामने आया है कि युवाओं में मोटापा कैंसर की बड़ी वजह बनता जा रहा है।

चिकित्सक भी निभाएं जिम्मेदारी
अमेरिकन कैंसर सोसायटी के वैज्ञानिक अहमदीन जमाल ने कहा कि मोटापे से निपटने में सही खानपान और व्यायाम की अहम भूमिका होती है। साथ ही इसमें स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों को भी जिम्मेदारी निभानी होगी। मुश्किल से तिहाई युवाओं को ही मोटापे के खतरे और इससे बचने के उपायों के बारे में कोई बताता है। चिकित्सकों को इस बात पर नजर रखते हुए हर उस मरीज को समझाना चाहिए, जिसमें मोटापे के लक्षण दिखने लगे हों।