Breaking News जम्मू और कश्मीर देश राजनीति

Article 370 Revoked: जम्मू-कश्मीर से अलग हुआ लद्दाख

 केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाते हुए Jammu Kashmir से अनुच्छेद 370 हटाने का ऐलान किया है। राष्ट्रपति के आदेश पर यह अनुच्छेद 370 को जम्मू-कश्मीर से हटा दिया गया है। इसी के साथ जम्मू और कश्मीर राज्य को दो हिस्सों में बांट दिया गया है। जम्मू-कश्मीर एक अलग केंद्र शासित प्रदेश होगा, जबकि लद्दाख को अलग से केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है। बता दें कि लद्दाख के लोग पिछले 70 साल से केंद्र शासित प्रदेश के दर्जे की मांग करते रहे है

बिना विधानसभा के केंद्र शासित प्रदेश
लद्दाख को अलग से केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा तो दे दिया गया है, लेकिन यहां विधानसभा नहीं होगी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने अपने बयान में कहा कि वहां के लोग काफी लंबे समय से इसे अलग केंद्र शासित प्रदेश के रूप में मान्यता दिए जाने की मांग कर रहे थे। इस मांग के पीछे तर्क यह था कि यहांके लोग अपने लक्ष्यों को हासिल कर सकें।

कारगिल में मुस्लिम और लेह में बौद्ध बहुसंख्यक
साल 2011 की जनगणना के अनुसार लद्दाख की कुल जनसंख्या 2 लाख 74 हजार 289 है। यहां की जनसंख्या मुख्य रूप से लेह और कारगिल जिलों के बीच विभाजित है। 2011 की जनगणना के अनुसार कारगिल की कुल जनसंख्या 1 लाख 40 हजार 802 थी, जबकि लेह जिले में 1 लाख 33 हजार 487 लोग रह रहे थे। कारगिल जिले में 76.87 फीसद आबादी मुस्लिमों की थी, इनमें भी शिया समुदाय के लोग ज्यादा हैं। लेह की बात करें तो यहां के 66.40 फीसद लोग बौद्ध धर्म को मानने वाले हैं।