A pregnant woman returning from working with a brick kiln gave birth to an infant in a truck no ambulance found | नहीं मिला एंबुलेंस तो गर्भवती महिला ने ट्रक में दिया शिशु को जन्म, मजदूरों ने मदद की

0
155

नवादा: गोरखपुर में ईंट भट्ठे पर काम करने वाले बिहार के नवादा के 65 मजदूर बारिश के बाद एक ट्रक से घर जा रहे थे. तभी कुदरा पहुंचते ही एक महिला को प्रसव का दर्द शुरू हो गया, जिसके बाद कुदरा में अस्पताल से आधा किलोमीटर की दूरी पर एक लाइन होटल पर गाड़ी खड़ी कर दी. इसके बाद मजदूरों ने अस्पताल प्रबंधन से महिला को अस्पताल भिजवाने की गुहार लगाई. 

होटल मालिक ने महिला को अस्पताल भिजवाने के लिए कई बार अस्पतालकर्मियों को फोन किया ताकि किसी तरह एंबुलेंस की व्यवस्था की जाए, लेकिन एक घंटे में जब तक एंबुलेंस पहुंचा तब तक महिला का प्रसव ट्रक पर ही हो गया. ट्रक पर मौजूद अन्य महिलाओं ने सुरक्षित प्रसव कराया.

मजदूरों ने बताया कि वे गोरखपुर के ईट भट्ठे में काम करते है. 65 लोग हैं जो ट्रक से नवादा जा रहे थे. तभी एक महिला की डिलीवरी का वक्त आ गया लेकिन अस्पताल तक जाने से पहले ही ट्रक में उसकी डिलीवरी करनी पड़ी.

होटल संचालक ने कहा कि जब ट्रक रुका तो महिला को प्रसव दर्द हो रहा था. सूचना मिलने के बाद मैंने अस्पताल में फोन भी किया और अपने एक स्टाफ को अस्पताल भी भेजा. हमारे यहां से आधा किलोमीटर की दूरी पर एक अस्पताल है. ना तो एंबुलेंस आया ना ही कोई आशा और अन्य चिकित्सक ही पहुंच पाए. 

फिर लगभग एक घंटे बाद एंबुलेंस पहुंचा जिस पर कोई भी एएनएम, आशा या चिकित्सक मौजूद नहीं थी. महिला को डिलीवरी होने के बाद लोग एंबुलेंस से अस्पताल ले गए हैं.

वही, सिविल सर्जन ने बताया कि एक प्रवासी महिला मजदूर की ओर से ट्रक में बच्चे को जन्म दिया गया है, जो सुरक्षित है. इसका इलाज हम लोग के अस्पताल कुदरा में ही हुआ. एंबुलेंस वहां पर विलंब से पहुंचा था क्योंकि एक एंबुलेंस अस्पताल में खराब पड़ा है और दूसरा एंबुलेंस मरीज को लेकर गया था. आने में थोड़ी विलंब हुई लेकिन महिला सकुशल है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here