Agriculture Department runs operation clean locust in Dausa | दौसा में कृषि विभाग ने चलाया ‘ऑपरेशन क्लीन’ टिड्डी, दवा का किया छिड़काव

0
149

दौसा: राजस्थान के दौसा जिले में 3 दिन में पहली बार टिड्डियों के बड़े दल ने हमला किया है. 3 दिन पहले दौसा विधानसभा क्षेत्र के नांगल राजावतान इलाके में टिड्डियों ने पड़ाव डाला था. तो, बीती रात्रि को सिकराय विधानसभा क्षेत्र के सूरजपुरा गांव में टिड्डियों ने फिर से पड़ाव डाला.

करीब 3 किलोमीटर लंबा और 1 किलोमीटर चौड़ा टिड्डी दल जयपुर के रास्ते से दौसा जिले में पहुंचा है. यहां कृषि विभाग के अधिकारियों ने टिड्डियों के पड़ाव डालने का इंतजार किया तब तक, दवा छिड़काव के लिए कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई थी.

देर रात को टिड्डी दल पर करीब दो दर्जन ट्रैक्टर और तीन दमकल की गाड़ियां व अन्य वाहनों से छिड़काव का काम शुरू किया गया, जो सुबह तक जारी रहा. कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि, दवा छिड़काव से करीब 70 प्रतिशत टिड्डियों को खत्म कर दिया गया है.

वहीं, बची हुई टिड्डियां भी दवा के प्रभाव से खत्म हो गई. अधिकारियों ने कहा कि, टिड्डी दल जैसे ही यहां से आगे के लिए मूमेंट करेगा तो, ज्यादा दूर तक नहीं उड़ नहीं पाएगा. दवा के प्रभाव से यह सब कुछ घंटे में खत्म हो जाएंगे. टिड्डी दल को देखकर ग्रामीण भयभीत हैं.

माना जाता है कि, टिड्डी दल हरे पेड़-पौधे या फसल पर बैठता है और उसको पूरी तरह खा जाता है. हालांकि, इस समय खेतों में कोई बड़ी फसल तो नहीं है, लेकिन जो सब्जी उत्पादक किसान है और जो पशुपालक पशुओं के लिए जो हरा चारा खेतों में किया हुआ है, वह टिड्डी दल को लेकर खासा परेशान है. लेकिन कृषि अधिकारी उन्हें समझा रहे हैं.

कृषि अधिकारी दावा कर रहे हैं कि, जल्दी ही पूरे टिड्डी दल पर नियंत्रण कर लिया जाएगा. दौसा जिले में इस तरह का टिड्डी दल लोगों को पहली बार देखने को मिला है, जिसको लेकर किसान और ग्रामीण अधिक परेशान है. वहीं, सीकर जिले के लोसल क्षेत्र के शाहपुरा लोसल व सांगलिया सहित दर्जनभर से ज्यादा गांवों में अचानक टिड्डी दल ने हमला बोल दिया. नागौर जिला सीमा से लगने वाले गांवों से टिड्डी दल ने प्रवेश कर सीकर के इन गांवों में खेतों में पेड़-पौधों व सब्जियों की फसल को नुकसान पहुंचाया है.

बीते 3 दिनों में टिड्डी दल ने रविवार को दूसरी बार हमला किया. 3 दिन पूर्व टिड्डी दल ने लोसल सहित भीमा जाना गुमानपुरा आदि गांवों में हमला किया था. अचानक आए टिड्डी दल से लोगों में अफरा-तफरी मच गई. क्षेत्र में पहली बार टिड्डी दल को देखकर लोगों में कोतुहल का विषय बन गया.

लोसल शहर में लोगों ने पेड़ पौधों को बचाने के लिए ताली, थाली और बर्तन बजाने के साथ ही, हो हल्ला व पटाके चला कर टिड्डी दल को आगे भगाने का प्रयास किया. वहीं ग्रामीण इलाके में बर्तन व डीजे आदी की आवाजें चलाकर टिड्डी को भगाने का प्रयास किया गया.

बीती रात को टिड्डी दल ने नागौर जिले के डीडवाना में पड़ाव डाला था. पहले से टिड्डी दल की जानकारी होने के बावजूद भी, प्रशासन के प्रयास बिल्कुल नजर नहीं आए. किसानों ने अपने स्तर पर टिड्डी दल को आगे भगाने का प्रयास किया. लंबे अरसे के बाद, इलाके में टिड्डी दल की सक्रियता को देखते हुए किसानों में खौफ का माहौल है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here