Sajjad Lone of Peoples Conference broke ties with the Gupkar alliance| बिखरने लगा ‘गुपकार गठबंधन’, कश्मीर के इस अहम राजनीतिक दल ने तोड़ लिया नाता

0
94

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में पिछले साल बीजेपी से मुकाबले के लिए ‘गुपकार अलायंस’ (Gupkar Alliance) बनाने वाले राजनीतिक धीरे-धीरे बिखराव की राह पर चल पड़ा है. इसके अहम घटक दल पीपुल्स कॉन्फ्रेंस (Peoples Conference) ने इस गठबंधन ने नाता तोड़ लिया है. 

सज्जाद लोन ने फारूक अब्दुल्ला को भेजी चिट्ठी

पार्टी प्रमुख सज्जाद लोन (Sajjad Lone) ने आरोप लगाया कि नेशनल कॉन्फ्रेंस ने डीडीसी (DDC) चुनावों में प्रॉक्सी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था, जिससे गठबंधन की दूसरी पार्टियों को काफी नुकसान पहुंचा. गुपकार गठबंधन (Gupkar Alliance) ने चुनावों में 280 में से 110 सीटें जीती थीं. सज्जाद लोन ने मंगलवार को गुपकार अलायंस के अध्यक्ष डॉक्टर फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) को चिट्ठी लिख कर अपने फैसले के बारे में जानकारी दी. 

भागीदारों के बीच विश्वास का उल्लंघन हुआ- सज्जाद लोन

सज्जाद लोन (Sajjad Lone) ने अपनी चिट्ठी में लिखा, ‘हमारे लिए यह मुश्किल है कि हम इस पर बने रहें और दिखावा करें कि जैसे कुछ भी नहीं हुआ है. भागीदारों के बीच विश्वास का उल्लंघन हुआ है, जिसे हम मानते हैं कि उसका उपाय अब नहीं मिल सकता है.’  सज्जाद लोन ने कहा कि हालात को देखते हुए उनकी पार्टी ने फैसला लिया है कि अब चीजों के और बिगड़ने का इंतजार करने के बजाय गठबंधन से बाहर निकल जाना चाहिए.

सब पार्टियों में सत्ता की भूख है- पीपुल्स कॉन्फ्रेंस

पीपुल्स कॉन्फ्रेंस (Peoples के नेता अब्दुल्ला गनी वकील ने कहा, ‘यह एक छोटा चुनाव था और हमने इस चुनाव में ईमानदारी नहीं पाई. कश्मीर में नेताओं ने जो वादा किया, वो कभी पूरा नहीं हुआ. शुरुआत में कांग्रेस ने कहा कि वे इसका हिस्सा हैं और फिर छोड़ दिया. सब से बड़ी समस्या यह कि सब पार्टियों को सत्ता की भूख है.’

PAGD के पास कोई रोडमैप नहीं- APNI पार्टी

वहीं APNI पार्टी ने दावा किया कि PAGD के पास कोई रोडमैप नहीं है. वह पहले कहते थे कोई चुनाव नहीं लड़ेंगे, फिर अचानक मैदान में उतर गए और लोगों को बेवकूफ बनाया. APNI पार्टी के वरिष्ठ नेता रफी मीर का कहना है कि गठबंधन में पार्टियां हार गई हैं और उनके पास एक साथ रहने का कोई कारण नहीं है. उनके पास कोई रोड मैप नहीं है कि अनुच्छेद 370 को कैसे वापस लाएंगे. जब यह अनुच्छेद हटा तो उनके लोग लोकसभा में मौजूद थे, लेकिन वे न तो लोकसभा के अंदर कुछ कर पाए और न बाहर. 

ये भी पढ़ें- DDC चुनाव: बीजेपी Vs गैर-बीजेपी की ‘जंग’, विपक्ष ने लगाए ये आरोप

‘सज्जाद को गठबंधन तोड़ने के लिए दबाव डाला गया’

वहीं PAGD सदस्य और ANC पार्टी के प्रमुख का कहना है कि गठबंधन छोड़ने के लिए सज्जाद लोन पर दबाव डाला गया है. ANC पार्टी के प्रमुख मुजफ्फर शाह ने कहा कि यह उनका अपना फैसला है, लेकिन हमारे सामने बड़ा मुद्दा ये है कि हमें अपनी पहचान वापिस लानी है. उधर PDP का कहना है कि यह गठबंधन अनुच्छेद 370 और 35a को जम्मू कश्मीर में वापस लाने के लिए बनाया गया है. हम सीटों के बंटवारे जैसे मुद्दे पर लड़ना नहीं चाहते हैं. 

LIVE TV



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here